Sunday, 22 October 2017

मैं अकेली थी


जरूरत थी मुझे तुम्हारी
पर..... पर तुम नहीं थे!
मैं अकेली थी!
तुम कहीं नहीं थे!

केवल तुम्हारी आरजू थी!
तुम्हारी जुस्तजू थी!
जो मुझे कचोट रही थी!
अकुलाहट, व्याकुलता के अँधेरों में घिरी हुई  मैं! तुम्हें खोज रही थी!
वो अंधेरा जब मुझे अपनी आगोश में समाहित करने को उतावला था!
मैं  बेचैन थी, छटपटा रही थी!
तुम्हारा संबल तलाश रही थी!
तुम्हारा साया भी मुझे,
तब अपने आसपास नजर नहीं आया !
तुम्हारी कसमें, तुम्हारे वादे,
आज सब बेमानी हो गए !

मेरे विश्वास को आहत किया तुमने !
एक बार नहीं, कई - कई बार!
हां! कई- कई बार  टूटी हूँ मैं!
कई- कई बार बिखरी हूँ मैं!
फिर भी खुद को समेटा है मैंने !
तुम्हारे घात ने,
मुझे हर बार पटका है जमीं पर,
पर फिर मैं अकेले संभली हूँ!
उग जाती हूँ मैं फिर से,
उस घास की तरह!
जिसे...
जिसे हर बार उखाड़ कर फेंक दिया जाता है,
मेड़ के उस पार अपनी मिट्टी से दूर!
शायद यही विधाता का लेख है!
शायद यही मेरी नियति है!
बार बार ठोकर खाना,
और फिर दोबारा,
एक सुखमय जीवन की आस करना!

चित्र साभार गूगल







Monday, 2 October 2017

मुंबईकर थोड़ा धीरे चलो

मुंबईकर थोड़ा धीरे चलो
थोड़ी सी राहत की साँस ले लो
थोड़ा सब्र करो

माना मायानगरी है यह!
मृगमरीचीका है 
जो सिर्फ हमें भ्रमित कर रही है
हमें अपने जाल में फँसा रही है!
और हम जानते - बूझते फंसते जा रहे हैं!
पर हम तो समझदार हैं!
हमें आखिर क्या चाहिए!
हमें वही चाहिए न, जो बाकी सबको चाहिए!
फिर हम क्यों भाग रहे है?
सोचो..
थोड़ा धैर्य धरो
थोड़ा धीरे चलो ....

क्या और शहरों में लोग जीते नहीं!
क्या वो कमाते और खाते नहीं!
फिर हममे इतनी होड़ क्यो लगी है!
उनके पास समय है,
त्योहार मनाने का,
यार दोस्तों से मिलने का,
उनके घर जाने का,
उन्हे अपने घर बुलाने का!
क्यों हमारे यहाँ तीज त्योहार आते हैं,
और चले जाते हैं
पर हम उनका आनंद नहीं ले पाते हैं
क्यों हम अगले दिन की प्रेजेंटेशन को लेकर, इतने ज्यादा परेशान रहते हैं?
हमें आखिर क्या चाहिए?
हम क्यों भाग रहे है?
सोचो..
थोड़ा धैर्य धरो!
थोड़ा धीरे चलो......

क्या तुम्हें याद है-
अपनों के साथ पिछली
बार समय कब बिताया था?
परिवारवालों को यार - दोस्तों का
किस्सा कब सुनाया था?
बड़ा कुछ हासिल करने की खातिर
छोटी छोटी खुशियों के पल
हमने क्यों गवां दिए?
रात की नींद,
दिन का सुकून आखिर है कहाँ?
क्यों हम रोबोट हो गए हैं?
ये जीना भी कोई जीना है!
आखिर कब हम अपना जीवन जीएंगे?
हमें आखिर क्या चाहिए?
हमें वही चाहिए न जो बाकी सबको चाहिए?
फिर हम क्यों भाग रहे है?
सोचो..
थोड़ा धैर्य धरो!
थोड़ा धीरे चलो......

क्यों हम में इंसानियत बाकी न रही?
क्यों अपने आगे हमें कोई नजर नहीं आता?
क्यों हम इतने स्वार्थी हो गए हैं?
क्यों हमे अपने पड़ोसी का नाम नहीं पता?
क्यों हम केवल इल्जाम लगाते हैं?
क्यों अपनी जिम्मेदारीयो से पीछा छुड़ाते हैं?
क्यों कुछ गलत होता
देख कर हम आँखे मूँद लेते हैं?
हमें आखिर क्या चाहिए?
हमें वही चाहिए न जो बाकी सबको चाहिए!
फिर हम क्यों भाग रहे है?
सोचो..
थोड़ा धैर्य धरो!
थोड़ा धीरे चलो......

आज आत्म मंथन जरूरी है!
हम आखिर कहाँ खो गए!
यह जानने की जरूरत है!
हमे ख़ुद को खोजना है!
हमें आखिर क्या चाहिए?
हम क्यों भाग रहे है?

सोचो...
मुंबईकर सोचो..
थोड़ा धैर्य धरो!
थोड़ा धीरे चलो
और थोड़ा जी भी लो !  ......

Thursday, 21 September 2017

कहानी है मेरी पड़ोसन की


कहानी है मेरे पड़ोसन की - 
एक दिन वह मेरे पास आई 
उसकी आंखें थी डबडबाई 
उसे चिंतित देख जब रह न पाई 
मैंने उससे पूछ ही डाला - 
इस उदासी का क्या है कारण? 
आख़िर ऐसी क्या है बात ?
कहो तो कुछ उपाय सोचे
जल्द से जल्द करें  निवारण 
कुछ सकुचाते बामुश्किल से 
उसने आप बीती सुनाई - 

बहनजी, मेरा बेटा करता है 
हरदम अपनी ही मनमानी 
नहीं सुनेगा बात मेरी  
जैसे उसने मन मे ठानी 
नहीं समझ आता मुझे 
कहूँ कौन- कौनसी बात 
चिपका रहता फोन से सदा, 
दिन हो या रात


आज तो हद ही हो गई 
जब मैंने उसका फोन लिया छीन 
तो हो गया वह बहुत खिन्न 
कहने लगा मुझसे-
आप अपने काम से काम रखो 
आप जब घंटों लगी रहती हो फोन पे 
अपनी सखियों के संग 
तो क्या मैंने कभी डाला है 
आपके रंग में भंग 
आप कौनसा दादी की बात सुनती हो
जो मैं आपकी सुनू! 
आपका बेटा हूँ
आपके नक्शे कदम पर हूँ! 
आप उन्हें नहीं गिनती 
तो मैं आपको क्यों गिनू? 
अब भला आप ही बताइए- क्या मैं ऐसी हूँ!

सुनकर उसकी बातें मुझे हँसी आई 
मैं मुस्कराई 
वह थोड़ी चौंकी, थोड़ी सकपकाई 
मुझ पर प्रश्नभरी नजरे गड़ाई 
और दागा एक सवाल -
मेरे घर में मचा है बवाल 
यहाँ मेरी जान जाती है 
और आपको हँसी आती है 

मैंने उसे उस दिन का वाकया याद दिलाया - 
क्या वह दिन तुम्हें याद है 
जब मैं , तुम और तुम्हारी सास
 सिनेमाघर घर फ़िल्म देखने गए थे ¿
और हम तीनों एक साथ 
अगल - बगल की सीट पर बैठे थे
तभी तुम्हें वहाँ अपनी दो सखियाँ नजर आईं
खुशी के मारे चेहरे पर तुम्हारे मुस्कान छाई 

तुमने उन्हें अपने पास बुलाया 
और उनकी सीट पर हमें बिठाया 
इंटरवल में सखियों संग 
सेल्फी का मजा खूब उठाया 
कोक समोसा पॉपकॉर्न भी 
जमकर तुमने खाया 
भूल गई तब हम दोनों को
थे हम भी तो साथ तुम्हारे 
माँ जी बोल नही कुछ भी पाई 
बस मन मसोसकर रह गई 

 तब मैंने पढ़े थे उनके भाव
फ़िल्म देखी थी व्यंग्य भरे
पर अश्रु गिरे थे उसी ठाव 
तब तुमने नहीं,  
मैंने उन्हें संभाला था 
भर भर आँसू गिरते थे पर
मुँह पर उनके ताला था 
हाँ मैंने उन्हें संभाला था 

सुन बात भरी वह लज्जा से 
जमीन हिल गई पाँव तले  
दौड लगाई उल्टे पांव 
और मां जी के पैरों में पड़ी 

कर बद्ध क्षमा मांगी उसने 
वह  मंजर बड़ा सुहाया था
ममतामयी दया की मूरत 
माता ने गले लगाया था 

सुधा सिंह 🦋

  
चित्र :गूगल साभार