Wednesday, 30 December 2015

देखो ठण्ड का मौसम आया।


देखो ठण्ड का मौसम आया।

शीत लहर चली ऐसी कि,
सबको कम्बल में सिमटाया।
मन नहीं करता बिस्तर छोडूँ,
मौसम ठण्ड का इतना भाया।

'सूरज दा' करते अठखेली,
चारों ओर कुहासा छाया।
सुखद गुलाबी ठंडी का,
यह माह दिसम्बर मन को भाया।

ईख का रस और गुड़ की भेली,
देख के सबका मन ललचाया।
आलू और मटर की पूरी,
सबकी थाली में है आया।

चाय-पकौड़े मन को लुभाते,
स्वेटर का है मौसम आया।
लहसुन-मिर्च-नमक की चटनी,
साग चने का खोंट के खाया।

शुद्ध हवा और ताजी सब्जियां,
देखके सबका मन ललचाया।
'जल' लगता बैरी-सा सबको,
छूने से भी मन घबराया।

पशु-पक्षी सब दुबके रहते,
और ठिठुरती सबकी काया।
गांवों की हर गली में सबने,
मिलकर है अलाव जलाया।

देखो ठण्ड का मौसम आया।

सुधा सिंह






Sunday, 20 December 2015

कोयल


कोयल तू चिड़ियों की रानी ,
चैत मास में आती है।
अमराई में रौनक तुझसे,
कली - कली मुसकाती है।

तेरे आने की आहट से,
बहार दौड़ी आती है।l
दूर रजाई  कम्बल होते,
हरी दूब बलखाती है।

आमों में मिठास है बढती,
वसंत ऋतु इठलाती है।
कौवे मुर्गे चुप हो जाते,
जब तू सुर लगाती है।

कर्णो में रस घुलता है ,
तेरी मीठी वाणी सुन।
अंग - अंग झंकृत हो जाता ,
कोयल तेरी ऐसी धुन।

कालिख तेरे पंखों पर है,
कंठ विराजे सरस्वती माँ।
सबको अपनी ओर खींचती,
जब भी छेड़ती राग अपना।

तेरी वाणी मधुर है इतनी,
पवन भी तान सुनाता है।
धीरे - से गालों को छूकर,
दूर कहीं बह जाता है।

कीट पतंगे जब तू खाती ,
खेतों में फ़सलें लहराती।
साथी बनकर कृषकों के,
अधरों पर मुस्कान है लाती।

कूक तेरी बंसी -सी लगती,
मादकता चहुँ ओर थिरकती।
जर में भी तरुणाई आती,
जब तू अपनी तान लगाती।

सुधा सिंह

Sunday, 6 December 2015

आखिर क्यों?

एक ओर अकाल की आहट है,
एक ओर प्रलयकारी वर्षा।
हम सबकी ऐसी करनी है
जिसकी हमको मिल रही सजा ।
थक गई है धरती सब सहकर
ईश्वर को है दे रही सदा........,

"करके तन - मन मेरा छलनी,
हँसते हैं ,आती ना लज्जा।

इनकी बुद्धि है भ्रष्ट हुई,
ये मुझे न अपने लगते हैं।
जो अपनी माँ पर जुल्म करे,
क्या इनको 'बेटा' कहते हैं।

इंसान की कोख के रोग हैं ये,
दानव की भाँति लड़ते हैं।
आँखों में इनकी शर्म नहीं,
आपस में जंग ये करते है।

मानवता रोती फूट- फूट कर,
इनकी ऐसी हरकत है।
हर अंग मेरा सिसकता है,
आतंक की इतनी दहशत है।

सिरिया हो ,या फ्रांस हो,
हर जगह पे रक्त बहाया है।
मेरी प्यारी मुम्बई पर भी,
कसाबों का पड़ता साया है।

घटिया सोच से ग्रसित हैं ये ,
क्यों रक्त पान ये करते हैं।
पाला न पड़ा संस्कारों से ,
धरमों की दुहाई देते हैं।

लाशों के सीने पे चढ़कर,
नाच गान ये करते हैं।
हो गई इंतेहा जुल्मों की,
ये सबसे नफ़रत करते हैं।

रिश्तों में कोई मिठास नहीं,
कटुता ही कटुता छाई है।
मुख में राम बगल छूरी,
ये रीत सभी को भाई है।

अब यह सब बर्दाश्त नहीं होता,
मन करता है संहार करूँ।
हो गई है हद अब सहने की,
इतना सब आखिर क्यों मैं सहूँ।

अकाल हो सुनामी हो ,
चाहे ग्लोबल वार्मिंग हो,
नित नए रूप मैं दिखाऊंगी।
इनको इनकी करनी का फल,
अब किसी भी हाल चखाऊँगी।

अपनी नई संतति को ,
अब नर्क भेंट में ये देंगे।
तब तक उत्पात मचाऊंगी,
जब तक न सबक ये सीखेंगे।"

सुधा सिंह

Tuesday, 17 November 2015

तकदीर

कैसी तेरी कलम थी ,कैसी तेरी लिखावट!
पन्ना भी चुना रद्दी,स्याही में थी मिलावट!
अक्षर हैं बड़े भद्दे ,न है कोई सजावट!
धरती बनाई ऐसी ,कि हर जगह बनावट!

लिखने का मन नहीं था,
तो क्यों लिखी तकदीर मेरी।
किस बात का बदला लिया,
क्यों मेरे विरूद्ध चाल चली।
ऐसा दिया जीवन मुझे कि,
रूह तक मेरी जली।
हुआ तू 'परमपिता' कैसे
तुझसे तो सौतेली माँ ही भली।

मुन्नी है मेरी भूखी, मुन्ना न गया स्कूल।
बदन पे नहीं चिथड़े ,पैरों में चुभे शूल।
दो जून की रोटी नहीं,जलता नहीं है चूल्ह।
क्यों पैदा करके हमको ,ये रब तू गया भूल।

संघर्ष भरा जीवन ,और कष्ट हैं अनेक।
हर युग में तू आया ,यहाँ कलयुग में आके देख।
रावण ही नहीं कंस भी ,अब मिलेंगे अनेक ।
ऐसे जहाँ में जीकर ,फिर एक बार देख ।

हर जगह ठोकर यहाँ , है हर तरफ अपमान।
 है घूँट ये जहरीला, पीना नहीं आसान।
न उम्मीद की किरण है ,न सुख की कोई आहट।
न प्यार की खनक है ,न कोई सुगबुगाहट।

कहते है तेरे घर में, अंधेर नहीं है
देर है भले ही , हेर - फेर नहीं है
बालक हूँ तेरा ,जिद है मेरी, अब तो मुझे देख।
हाथों मेरे खींच दे ,सौभाग्य की एक रेख।

बस आखरी इल्जाम, मैंने तुझको  दिया है।
 दिल से हूँ क्षमाप्रार्थी ,गर  पाप किया है।

Sunday, 15 November 2015

इंतज़ार



अपने ज़ज़्बातों का इजहार करुं किससे!
कौन है वह ,कहाँ है वह, अपना कहूँ किसे!
वो आसपास कहीँ नजर आता नहीं।
उसका पता कोई बतलाता नहीं।

इक उम्र गुजार दी हमने,
करते उनका इंतज़ार ।
न जाने वो घडी कब आएगी ,
कि होगा मुझे दीदारे - यार ।

आँखों से अश्क सूख गए,
राह उनकी तकते - तकते।
लबों से लफ़्ज रूठ गये,
इंतजारे मोहब्बत करते- करते।

अब ये आलम है कि,
मेरा अक्स मुझे दिखता नहीं।
कहीँ देर इतनी
न हो जाये कि
मेरी रूह मेरा साथ छोड़  दे।




Saturday, 24 October 2015

उस घडी का इंतजार मुझे अब भी है।


चाहत तो ऊँची उड़ान भरने की थी।
पर पंखों में जान ही कहाँ थी!
उस कुकुर ने मेरे कोमल डैने
जो तोड़ दिए थे।
मेरी चाहतों पर ,
उसके पैने दांत गड़े थे।
ज्यों ही मैंने अपने घोंसले से
पहली उड़ान ली।
उसकी गन्दी नज़रे मुझपर थम गई।
वह मुझपर झपटने की ताक में
न जाने कब से बैठा था।
न जाने कब से ,
अपने शिकार की तलाश में था।
उसकी नजरों ने,
न जाने कब मुझे कमजोर कर दिया।
डर के मारे मैं संभल भी न पाई ।
पूरी कोशिश की ,
पर जमीन पर धड़ाम से आ गिरी।
फिर मेरा अधमरा शरीर था
और उसकी आँखों में जीत की चमक।
वह कुकुर अपनी इसी जीत का जश्न
रोज  मनाता है।
और अपनी गर्दन को उचका -उचकाकर
समाज में निर्भयता से घूमता है।
मानो उसने कोई विश्वयुद्ध जीत लिया हो।
उसके कुकुर साथी भी ,
इस कार्य में बढ़-चढ़कर भाग लेते हैं।
और कमजोरों पर ,
अपनी जोर आजमाइश करते हैं।
न जाने ऐसे कुकुरों के गले में ,
पट्टा कब पहनाया जायेगा !
तन के  घाव भले ही भर गए हैं,
आत्मा पर पड़े घाव कब भरेंगे !
क्या वो दिन कभी आएगा कि,
मैं दोबारा बेख़ौफ़ होकर
अपनी उड़ान भर पाऊँगी !
अपने आसमान को
बेफिक्र होकर छू पाऊँगी!
उस दिन-उस घडी का इंतजार
मुझे अब भी है।

Saturday, 19 September 2015

सेल्फ़ी के साइड इफ़ेक्ट

आया है जमाना सेल्फी का ,
और  लोग स्वयं में मस्त है।
ऐसा क्रेज कभी न देखा,
ये क्रेज  बड़ा जबरदस्त है।

बच्चे का जब जनम हुआ ,
तब डॉक्टर ने सेल्फी ले डाली।
देश विदेश में भ्रमण किया,
लगे हाथ सेल्फी ले डाली।

सेल्फी ली ऊँचे गुम्बद चढ़,
सेल्फी ली पहाड़ के शिख पर।
हो जन्मदिवस या पुण्यतिथि,
सेल्फी ली खूब बढ़ चढ़कर।

पति मरा सेल्फ़ी ले डाली,
बम फूटे सेल्फ़ी ले डाली।
सांप के संग सेल्फी की खातिर ,
जान यमराज के हाथ में डाली।

एक निरा सेल्फी की खातिर ,
पार्लर जाओ खूब सज धज लो।
समय बिताना संग अपनों के,
यह दृश्य हुआ अदृश्य समझ लो।

सेल (cell )को अपना मित्र बनाकर,
सेल्फी ली पोस्ट कर डाली।
कोई मौका छूट न पाया,
हर मौके सेल्फी ले डाली।

मंदिर जाओ मस्जिद जाओ,
जाओ चर्च और गुरद्वारे।
किसकी किसको फिक्र यहाँ है,
सेल्फी में सब मस्त हैं प्यारे।

सेल्फी से प्यार हुआ इतना,
कि युवा देश का भरमाया।
आधुनिक बनने की चाह में,
अपना चैन -सुकून गँवाया।

'सेल्फी वेल्फ़ी' छोड़ दो भैया,
मन को अपने मत भरमाओ।
यह  काम निरर्थक इसे छोड़ दो,
दिल से अपना फ़र्ज़ निभाओ।


सुधा सिंह




Friday, 18 September 2015

अब मत तरसाओ मेघा रे।।

कृषकों के दृग हैं अम्बर पर,
आ जाओ अब मेघा रे।
तपन करो अब दूर धरा की,
ऐसे बरसो मेघा रे।
दूर देश की छोड़ यात्रा,
दर्शन दे दो अपना रे।

नदी-ताल सब सूख रहे हैं,
पय बरसाओ मेघा रे।
नगर -ग्राम सब पड़ा है सूना, 
जल्दी बरसो बदरा रे।
नयन तुम्हारे दरस को तरसें,
 झर गया सबका कजरा रे।

बहुत ही चुकी लुका -छिपी ,
अब मत बहकाओ मेघा रे।
खग ,मृग ,पादप, नर औ नारी,
सबकी प्यास बुझाओ रे।
मोर पपीहे लगें नाचने ,
बरसो यूँ सारंगा रे।

लूह बदन को जला न पाये, 
जमके बरसो मेघा रे।
उमड़ घुमड़ के ऐसे बरसो ,
खुश हो जाये सगरा रे।
धान्य से सबका घर भर जाये,
भर जाये सबका अँचरा रे।

हम सबको अब मत तरसाओ 
अब तो आ जाओ  मेघा रे।।

Sunday, 6 September 2015

गुरु की महिमा

गुरु की महिमा का कोई,
कैसे करे बखान।
गुरु केवल शब्द नहीं ,
वह  है गुणों की खान।

शिष्य के मन को उज्वल करता ,
सूर्य की भाँति गुरु का ज्ञान।
गुरु न हो तो भविष्य तमोमय,
और स्याह है वर्तमान।

गुरु की महिमा जिसने समझी,
बन बैठा वो मनुज महान।
भूल न पाया विश्व कभी उसको,
मात - पिता की बढाई शान।

गुरु द्रोण से शिक्षा पाकर,
अर्जुन देखो बना महान।
तीरंदाज न उसके जैसा,
कौरव का किया काम तमाम।

गुरु आचरेकर को पा करके,
बना सचिन किरकेट का भगवान।
देश - विदेश में नाम कमाया,
और बढाई देश की शान।

परमहंस की बात मानकर,
नरेंद्र बन गये विवेकानंद।
स्वज्ञान का मनवाकर लोहा,
कर दिया पूरे विश्व को दंग।

तो पकड़ के उंगली कदम बढ़ाओ,
न करो कभी खुद पर अभिमान।
दंभ को अपने रख दो किनारे ,
न कभी करो उनका अपमान ।

देव वाणी है ,गुरु की वाणी ,
पूज्य भी वो ईश्वर के समान।
उन पर संशय कभी न करना ,
यह है ईश्वर पे, शक के समान।

गर सेवा में उनकी जुट जाओ,
तो पा जाओगे आसमान।
धन - दौलत की प्यास न उनको,
उनको केवल दो सम्मान।

राह गुरु जो दिखलाते हैं ,
तुम सदा ही उस पर करो गमन।
करो गुरु ज्ञान को आत्मसात,
और महका लो अपना चमन।
और महका लो अपना चमन....


सुधा सिंह







Thursday, 3 September 2015

आरक्षण



आरक्षण की आग लगी है ,
देश में ऐसा मचा बवाल ।
सोना की चिड़िया था जो,
चलता अब कछुए की चाल।

अम्बेडकर, गांधी ,नेहरू,
सबने चली सियासी चाल ।
देश की नीव को करके  खोखला ,
पकड़ा दी आरक्षण की ढाल।

आरक्षण की लाठी लेकर,
 कौवा चला हंस की चाल।
मेहनतकश मरता बेचारा ,
फंसके आरक्षण की जाल।

अनूसूचित जाति में जन्मे ,
तब तो समझो हुआ कमाल।
कुर्सी पर आराम से बैठो ,
और जेब में हाथ लो डाल।


बिना कुछ किये मिलेगा मेवा,
सोच न क्या है देश का हाल।
मेहनत से हमको क्या है लेना,
हम अनुसूचित जाति के लाल।

हम बैठ मजे से ऐश करेंगे ,
न होगा हमारा बांका बाल।
जिनको मरना है मर जाये,
हमसे न कोई करे सवाल।

उन सबका अधिकार छीनकर ,
कर देंगे उनको कंगाल।
पढ़ लिखकर हमको क्या करना ,
है साथ हमारे आरक्षण की ढाल।

वोट बैंक भी पास हमारे ,
और नेता है हमारी मुट्ठी में।
जिनको अपनी कुर्सी प्यारी,
वो करें हमारी देखभाल।





Wednesday, 2 September 2015

अस्तित्व

अस्तित्व

माना, तू  पापा का दुलारा है।
माँ की आँखों का तारा है।
उनका प्यार, उनकी दौलत तेरे साथ है।
और तुझे सहारे की दरकार है।

 क्या हुआ कि मैं एक लड़की हूँ।
मेरा भी एक अस्तित्व है।
मैं अपना आसमाँ खुद तलाशूंगी।
मैं अपनी तकदीर खुद लिखूंगी।
मुझे किसी सहारे की जरुरत नहीं।
क्योंकि मेरे साथ ऊपर वाली सरकार है।

जाने कैसे एक ही कोख से जन्म लेने बाद भी
 बेटा अपना और बेटी पराई होती है।
यह सोचकर कई बार मेरी आँखे नम होती हैं।
पर मैं स्वयं ही सशक्त हूँ,
मुझे हार नहीं स्वीकार।

मेरा आत्मिवश्वास ,
मेरा सबसे बड़ा सहारा है।
मुझे मेरा आत्मसम्मान सबसे प्यारा है।
भीख पर तू जी सकता है।
मुझे तो उधार की जिंदगी से भी घृणा  है।

Monday, 31 August 2015

दिल की किताब




बहुत दिनों बाद दिल की किताब खुली है ।
पर इस पर थोड़ी सी धूल जमी है,
कुछ दूषित नजरों के साये है ,
कुछ अपनों के है  कुछ पराये हैं,
इन्हें साफ़ करने की इक आस जगी है,
बहुत दिनों बाद दिल की किताब खुली है।

कुछ पन्ने अभी कोरे है ,
कुछ पर काली स्याही है,
कुछ को कीड़े खा चुके ,
कुछ को खाने आये है,
बहुत दिनों बाद इन पर निगाह थमी है,
बहुत दिनों बाद दिल की किताब खुली है।

कहीं भीगी पलकों की नमी है,
कहीं माँ के आंचल की गर्मी है,
कुछ में  मीठी मीठी यादें  छुपी है,
फिर भी  ये मेरे सपनों से सजी है,
बहुत दिनों बाद दिल की किताब खुली है।

कहीं खुशियों का सवेरा है,
कहीं गहरे दुखों का अँधेरा है,
ये मेरी किताब है ,
इसे मैंने सजाया है ,मैंने सँवारा है,
बहुत दिनों बाद ये मुझसे मिली है,
बहुत दिनों बाद दिल की किताब खुली है।

इसमें कुछ अंतरंग पलों की स्मृतियां है,
कुछ नन्हे मुन्नों की गूँजती किलकारियां है,
कहीं सबकुछ खो देने की हताशा है,
कहीं दुनिया पा लेने की अभिलाषा है,
ये मेरे अहसासों से सजी है,
बहुत दिनों बाद दिल की किताब खुली है।

Sunday, 30 August 2015

हो अग्रसर

हो अग्रसर ,हो अग्रसर
हो अपने पथ पे तू अग्रसर।
सैलाब से हो तेरा सामना ,
या कांटो भरी, तेरी  हो डगर।
हो अग्रसर ,हो अग्रसर।।

जीना उसका क्या जीना है ,
जो बैठ गए थक हार कर।
पा जाते हैं वे हर मंजिल,
जो बढ़ते हैं ,होकर निडर।
हो अग्रसर ,हो अग्रसर ।।

करता है इशारा बढ़ने का,
समय का पहिया  घूमकर।
सरिता बहती ही जाती है ,
जब तक नहीं, मिले सागर।
हो अग्रसर ,हो अग्रसर ।।

विघ्न बहुत से आएंगे ,
और आकर तुझे सतायेंगे,
ये क्षणिक हैं,इनसे न डर।
अंजाम की चिंता छोड़ दे,
न विचलित हो कुछ सोचकर।
हो अग्रसर ,हो अग्रसर ।।

मंजिल खुद गले लगाएगी ,
भरसक हो तेरा प्रयत्न गर।
आलस्य को तू त्याग दे ,
कटिबद्ध होकर कर्म कर।
हो अग्रसर ,हो अग्रसर ।।

पंखो में भरके हौसले  तू ,
अपनी नई उड़ान भर।
नित नई दिशाएँ खोज तू,
तू नव नभ का निर्माण कर।
हो अग्रसर ,हो अग्रसर ।।









Friday, 28 August 2015

गुज़ारिश


मत खेल कभी जज़्बातों से,
मत रूह किसी की छलनी कर।
तेरी हस्ती मिट जायेगी,
बन्दा उसका चोटिल हो गर।

मासूम की आँखों से अश्रु,
गर बिना  बात के निकलेगा।
तू मिटटी में मिल जायेगा,
खुद को पहचान न पायेगा।

जब चोट पड़ेगी ईश्वर की,
आवाज तुझे न आएगी।
न तेरा कोई साथी होगा,
न मांगे मौत ही आयेगी।

'मालिक' हो साथ सदा जिसके,
कोई बाल न बाँका कर सका।
दिल में गर ज्वाला भड़की हो,
तो कौन कयामत रोक सका।

जब वक़्त का पहिया घूमेगा,
तो सबक तुझे सिखलायेगा।
निकलेगी हृदय से  'आह' अगर,
तेरा रोम- रोम जल जायेगा.....
तेरा रोम- रोम जल जायेगा।

Tuesday, 25 August 2015

वह 'नर' ही 'नर' कहलाता है

जो पीर पराई समझ सके,
संग ईश्वर उसके रहता है।
निज स्वार्थ त्याग कर जो अपना,
दूजे का दर्द समझता है।
है मानस वह बड़ा महान,
जो परहित सदा सोचता है

संताप समझके गैरों का,
नम आँखे जिसकी हो जाये
इंसान असल में है वो ही,
जो तूफां से टकरा जाये।
पौरुष जिसका हो अति बली,
वह महापुरुष बन जाता है।

बाधा स्वयं दूर हो जाती,
वह जोश में जब आ जाता है।
दृढ़ इच्छा शक्ति है जिसमें,
वह 'नर' ही 'नर' कहलाता है।
आसमान नतमस्तक होता,
और पहाड़ झुक जाता है।

Friday, 21 August 2015

हर क्षण जीती हूँ मैं।


हर क्षण जीती हूँ मैं।

ज़र्रा ज़र्रा बिखरती हूँ मैं,
ज़र्रा ज़र्रा सिमटती हूँ मैं,
न जानू मैं  ,
कैसी कसक है ये !
न जानू मैं  ,
कैसा ये अहसास है!
क्षण- क्षण मेरी हस्ती ही
मुझे देती है चुनौती,
हौसले में दम और
उखड़ती सांसों में भरके प्राण ,
प्रतिपल जीवन से लड़ती हूँ मैं।
हर कसौटी को पार करती,
निराशा को मात देती ,
आशा को साथ लिए चलती हूँ मैं।
 हाँ ! हर क्षण जीती हूँ मैं।


Thursday, 20 August 2015

निज स्वरुप पहचान न पाया


निज स्वरुप पहचान न पाया
वक़्त ने ऐसा खेल रचाया।
देखके दुनिया का आडम्बर ,
नकली चोला मैं ले आया।।
इस चोले में  तपन है इतनी ,
यह मुझको अब समझ है आया।
देह मेरी क्यों जलती प्रतिदिन,
जल्दी मैं क्यों जान न पाया।।

देखके दूजे  खरबूजे को,
खरबूजे ने  रंग अपनाया।
पर जब पूछा इसका कारण,
भेद वह अपना खोल न पाया।।
 उसपर भी था चढ़ा आडम्बर,
 उसने अतःयह रूप अपनाया।
 कसर न छोड़ी छला सभी को,
 आस पास भ्रम जाल बिछाया।।

आँख मूँद ली सच्चाई से,
अच्छाई को दूर भगाया।
पीतल को समझा था सोना,
चमक गई तब मैं पछताया।।
अपनों को अपना न समझा,
सदा उन्हें फटकार लगाया।
उम्मीद लगाई थी सबसे ,
पर दूजा कोई काम न आया।।

 इंसानियत बदनाम हो गई,
 वहशीपन का चढ़ा जो साया।
 बुरे करम थे मेरे लेकिन,
 कलयुग पर इल्जाम लगाया।।
 दुनिया को समझा था पागल,
 पर मैं ही पागल कहलाया।

दुनिया देती रहेगी झांसे ,
अब यह मर्म समझ में पाया।।
नकली चोला देगा धोखा,
पहले क्यों मैं जान न पाया।
ऐसे करम किये क्यों मैंने,
ग्लानि से है मन भर आया।।

निज स्वरुप पहचान गया अब,
चाहे जितना देर लगाया।
हुई भले ही देर सही,
पर मुझको है अब होश तो आया।।
हे ईश्वर अब साथ दे मेरा
गर मैंने सही मार्ग अपनाया।।




Monday, 17 August 2015

यथार्थ

यथार्थ के धरातल पर ,
कोई उतारना नहीं चाहता।
कोई अपना असली रूप,
दिखाना नही चाहता।
जब तक चेहरे पर लीपा - पोती नहीं हो जाती
तब तक घरों से निकलना नहीं चाहता।
कहीँ कोई असलियत भांप न ले ?
कहीँ उसका विकृत रूप,
सामने न आ जाये ?
कहीं उसका असली रंग ,
लोगों को उससे दूर न कर दे?
कहीं उसका खेल,
लोगों में घृणा न भर दे?
ऐसा होने पर वह
नकली मुस्कुराहट किसे दिखायेगा?
लोगों को बेवकूफ़ कैसे बनाएगा?
उसकी इच्छाओँ की पूर्ति कैसे होगी?
उसकी दूषित मानसिकता की संतुष्टी
 कैसे होगी?
अतः असली चेहरा छुपाना ही बेहतर है।
लोगों को भ्रमित करना ही बेहतर है।
आज लोगों की मानसिकता यही है।
पर हमें समझना होगा कि ,
यह कहाँ तक सही है?



Saturday, 15 August 2015

बेबसी

खाली पेट ,खाली जेबे,
हर शख़्श यहाँ मज़बूर है।
ढेरों सपने लेकर जन्मा,
फिर भी मंजिल दूर है।
थाली में न दाल, न रोटी
न सेब ,न ही अंगूर है
हर कोशिश नाकाम हो रही,
पर जीने को मजबूर हैं।
आत्महंता, कृषक बन गए
नेता अपने में चूर हैं।


निराश हो गई युवा पीढ़ी,
बन गई जैसे मूढ़ है।
कई नशे के आदी हो गए,
कईयो को चढ़ा सुरूर है।
राजकरण व्यापार बन चला,
नेता इसमे मशगूल हैं।
नीव देश की हो गई खोखली,
कोई दीमक लगा जरूर है।
जन्मा भारत की धरती पर
क्या यही मेरा कसूर है?






हक़ीकत

समाज की कड़वी हकीकत का एक पहलू जहाँ लड़कियों को कोख में ही मार दिया जाता है वहीँ कुछ घरो में बेटी को पालना मजबूरी बन जाती है। बेटे को घर का चिराग मानकर उसकी हर गलती और हर गुनाह को नादानी समझकर छोड़ दिया जाता है। उसे व्यंग्य रूप में यहाँ प्रस्तुत किया जा रहा है  -

एक दिन एक जवान बेटे ने अपने पिता से कहा, " पिताजी !मुझे मेरी बहन का कलेजा चाहिए।"

पिताजी ,"बेटा !कुछ  दिन रुक जा।  अभी उसे अपने ससुराल से आ जाने दे।"

बेटा,"ठीक है पिताजी! तो अपना कालेजा ही दे दो।

पिताजी,"मैं अपना कलेजा दे दूँ ।बेटा! ऐसा मजाक नहीं करते ।तू चिंता क्यों करता है? मेरे मरने के बाद सब कुछ तेरा ही तो है।

बेटा,"और अगर मेरी बहन ने कुछ माँगा तो। "

पिताजी," वो कैसे मांगेगी? मैं सबकुछ तुझे ही दूँगा। वो तो पराई थी ।अपने घर चली गई ।जान छूटी।"

बेटा," हा पिताजी! वो मुझे अच्छी  नहीं लगती।

पिताजी,"क्या करे । तू अगर पहले पैदा होता तो  तेरी बहन को  मैं संसार में आने ही नहीं देता।
मुझे उसकी शादी के लिए कितना दहेज़ देना पड़ा।अच्छा हुआ जल्दी से उसकी शादी
हो गई।"

बेटा," पर पिताजी आप जल्दी क्यों नही मरते मुझे आपकी तस्वीर पर हार चढ़ाना है।

पिताजी,"बेटा ऐसा नहीं कहते ।अभी तो तू बहुत छोटा है  ।थोडा बड़ा होगा तो समझने लगेगा।जा ,जाकर सो जा । कुछ दिनों में तेरी बहन आ जायेगी। तब देखेंगे क्या करना है।"

बेटा," नहीं पिताजी !अभी मुझे अपने दोस्तों से मिलने जाना है।

पिताजी," रोज की तरह रात के दो बजे  मत आना। मुझे तेरी फ़िक्र होती है ।इसलिए जल्दी  आ जाना वरना मुझे कल की तरह फिर नीन्द नहीं आएगी।"

बेटा," अरे! आप सो जाओ न।मैं आ जाऊँगा।"
और वह नशे की हालत में धुत होकर  घर लौटा लेकिन.... अगली सुबह।










Sunday, 9 August 2015

जिंदगी-2

जिंदगी का फ़लसफ़ा भी अजीब है।
कभी सुनहरी धूप की तरह चमचमाती है।
तो कभी बिजली  बनकर कहर बरपाती है।
कभी छाँव बनकर अपनी शीतलता प्रदान करती है।
तो कभी बुरे दौर में साये की तरह साथ छोड़ देती है।

जिंदगी कभी माँ की तरह अपने आगोश में भर लेती है।
तो कभी आँसू बनकर दामन को भिगोती है।
कभी किलकारी बनकर आँगन में गूँजती है।
तो कभी अँधेरे में डराती भी है।

जिंदगी  आँखों में रंगीन सपने भर के अपने साथ लिए चलती है।
ये वो है जो हम सब की खाली किताब में अपनी कूची से इंद्रधनुषी रंग भरती है।
जिंदगी  कभी गरीब की झोपड़ी में भूख से बिलखती है।
तो कभी ऊँची मीनारों में ठहाके लगाती है।


Sunday, 2 August 2015

मातृभूमि आवाज दे रही

आन पड़ी तेरी आवश्यकता ,
उठ खड़ा हो अब देर न कर।
मातृभूमि आवाज दे रही ,
क्यों देखे तू इधर-उधर॥
अविश्वास, खोखलापन,
 पैर पसारे भ्रष्टाचार।
आतंकवाद,खौफ के साये ,
बढ़ता हुआ ये अत्याचार॥
लुटती लाज,मर रही निर्भया,
 बिकती लाशों का अम्बार।
इंसानियत दम तोड़ रही है,
 कर रही है अब हाहाकार॥
सूख गया आँखों का पानी,
 बढ़ी डकैती लूट- मार।
हैवानियत लालच का दैत्य,
बढ़ा रहा अपना आकार॥
रह गए सारे स्वप्न अधूरे,
 क्या वे कभी होंगे साकार।
इस भूमि का कर्ज़ चुकाने ,
खड़ा हो अब और भर हुँकार॥
भगत सिंह और राजगुरु की,
 एक बार है फिर दरकार।
उठो चंद्रशेखर ,बटुकेश्वर,
माटी की है ये ललकार॥
ज्वाला क्रांति की फिर भड़के,
 इस धरती की  यही पुकार।
अपने अपनों से मिल जाएं,
हर तरफ हो बस प्यार ही प्यार॥
हर तरफ हो बस प्यार ही प्यार....

Friday, 24 July 2015

ज़िंदगी


ज़िंदगी,तुझे हक है कि तू मुझे आजमाये।
तुझे हक है कि तू मेरे आँगन में मुस्कराये।
तेरी मौजूदगी ,हर पल मुझे जीने का एहसास दिलाती  है।
तेरी विद्यमानता ,हर पल मेरा हौसला बढाती है।
जिंदगी तेरे बहुतेरे रुप
तू कभी छाँव है तो कभी है धूप।
तू है तो मुझमें स्पंदन है।
कभी खुशियां हैं, तो कभी क्रंदन है।
तू है तो मुझमें मैं जिंदा हूँ।
तू है तो मैं उड़ता हुआ परिंदा हूँ।
इसलिए तुझे हक है कि तू मुझे आजमाये।
तुझे हक है कि तू मेरे आँगन में मुस्कराये।


जिंदगी तू कभी बदरंग नज़र आती है।
तो कभी इंद्रधनुषी रंग में खिलखिलाती है।
तू कभी मार्गदर्शक सी लगी।
तो कभी भटकन सी नज़र आई।
तू कभी भव्य सी लगी।
तो कभी मामूली पड़ी दिखाई।
तू कभी  कड़ा इम्तिहान  लेती है।
तो कभी अव्वल अंको से पास भी कर देती है।
इसलिए तुझे हक है कि तू मुझे आजमाये।
तुझे हक है कि तू मेरे आँगन में मुस्कराये।




Saturday, 18 July 2015

हम हंसने को मजबूर हो गए।

अश्रु  आखों  से  क्या  गिरे,
वो हमसे ही दूर हो  गए।
झूठी  हंसी  दिखाने  को,
हम भी  मजबूर  हो गए ।

वक्त  भी  बड़ा सितमगर है,
अपने  ही  मगरूर  हो गये।
हम पर प्यार लुटाने  वाले ,
न जाने क्यों  क्रूर  हो गये।

कैसा दस्तूर है  दुनिया  का ,
दिल  में  लाखों  गम  समेट कर  भी
हम हंसने  को मजबूर  हो  गए।

Friday, 17 July 2015

एकता


आओ बच्चों  हम सब सीखे, जीने  का  एक  नया  सलीका।
हम सब अगर  एक  हो जाएँ ,  बाल न बांका  होगा  किसी का।

हाथी झुंड में  जब आता है, खूंखार  भेड़िया  घबराता है ।
है एकता  की  यह ताकत, आसमान  भी  झुक  जाता है ।

एक  बूंद  धरती पर गिरके ,क्षणभर में  मिट जाती है ।
मिले अगर  वह  और  बूंद  से, वह समुद्र  बन जाती है ।

 पुष्प अगर  अकेला  है तो,उपवन  नहीं महकते हैं ।
कई पुष्प जब मिल जाते हैं, माला  बनके  मुसकाते हैं।

एक  ऊंगली  कुछ  कर  नहीं  सकती,  पांचों  मिले तो क्या  है बात।
मिलकर मुट्ठी  जब बन जाते, खट्टे  हो दुश्मन  के  दांत ।

ये केवल  एक  शब्द नहीं, इसमें  असीम  ताकत का  वास।
हर बाधा  पर होगी  विजय, सब मिलकर  जब करें प्रयास ।

पुरखों  ने यह बतलाया  है, निसर्ग  ने  भी  सिखलाया है ।
साथ  सभी  जब आ जाएंगे,  ह्रास कभी  न  होगा  किसी का ।

आओ बच्चों  हम सब सीखे, जीने  का  एक  नया  सलीका।
हम सब अगर  एक  हो जाएँ ,  बाल न बांका  होगा  किसी का।

Tuesday, 7 July 2015

क्यों वह कहीं और रोप दी जाती है ?


क्यों वह  कहीं  और  रोप दी जाती है ?

जिस  बगिया में  वह अपनी  पहली  सांस लेती है ।
जिस उपवन  को  वह अपनी  खुशबू से  महकाती है ।
जिसे देखकर  माली के चेहरे पर मुस्कान छलक जाती है ।
क्यों वह कहीं और रोप दी जाती है ?

जिसे देखकर  चमन में बहार आती है ।
जिसे देखकर  भंवरों में  चंचलता  आती है ।
वह पूरी तरह खिल भी नहीं पाती है ।
फिर वह  क्यों  बेरहमी से  तोड़  दी जाती है ?

देखकर  जिसे ऋतु वसंत  को तरुणाई  आती है ।
देखकर  जिसे  बयार मंद  - मंद  मुस्काती है ।
क्यों उसकी  खुशियां  जमाने  को रास नहीं  आती हैं?
क्यों वह अपनी  ही  माटी  से  उखाड़  दी जाती है?

ये कैसी रीति है कि
उसे अपना घर  छोड़ना ही पड़ता है ।
उसे अपने  बाबुल से बिछड़ना ही पड़ता है ।
वह अपने छोड़ , दूसरों के सपने सजाती है ।
फिर  भी क्यों  वह पराई  कही जाती है ?

आखिर क्यों  वह  कहीं और रोप दी जाती है? ............





Friday, 3 July 2015

वो शख्स कहाँ से लाऊँ ! !


दिल अपना  चीरकर किसे दिखाऊँ,
जो इसे समझ सके,
वो शख्स कहाँ से लाऊँ ! !
जो  मेरे  लफ्ज़ों को,  तराज़ू में न तोले
जो मुझे  समझ  ले, मेरे  बिन बोले ॥
वह शख्स  कहाँ से लाऊँ ! !
जो मुझपर ,
अपना अटूट विश्वास दिखा सके ॥
जो तहेदिल से बेझिझक,
मुझे अपने गले से लगा  सके॥
वह शख्स  कहाँ से लाऊँ ! !
जो  मेरे एहसास  का एहसास  कर सके,
जो सदैव ,
मुझे अपनी  कलयुगी निगाहों  से न  देखे॥
वह शख्स  कहाँ से लाऊँ ! !
जो हर पल मुझे ,
अपने साथ  होने  का  एहसास  दे॥
वह शख्स  कहाँ से लाऊँ ! !
वह
जो  मेरी  उखड़ती हुई सांसों को,
नवजीवन  की आस दे॥
 वह शख्स  कहाँ से लाऊँ ! !

Wednesday, 1 July 2015

बने रहें हम सब इनसान


प्रभु अरज मेरी  बस इतनी -सी है ,
बने  रहें  हम सब इनसान ॥
नजर में  कोई  खोट न हो,
न करें  किसी  का भी  अपमान ॥
करो कृपा  सही  राह  पकड़ लें,
औ' चल पाएं हम सीना तान ॥
न कभी किसी को दुखी करें ,
बना रहे सबका सम्मान॥
लालच अन्याय और अत्याचार,
मिट जाए इनका नाम निशान ॥
हमको इस काबिल देव बना ,
चोटिल न हो  हमारा स्वाभिमान ॥
न नीयत कभी बिगड़ने पाए,
सबको तू  इतना  दे भगवान ॥
 प्रभु अरज  मेरी  बस इतनी सी है ,
 बने रहे  हम सब इनसान ॥


विश्वास

मत हार मानकर ऐसे  बैठ,
कर  अपने पंखों  पर  विश्वास ॥
अंबर नीचे  आ जाएगा
और  तुझको  होगा  ये एहसास ॥
जब निश्चय  दृढ  हो जाता है
पूरी होती है  हर आस॥
अवरोध  सभी  मिट जाते हैं
जब  दिल  से  कोई  करे प्रयास॥
हर ओर  उजाला  होता है
अंधकार  का  होता  ह्रास ॥
जीत  नई  अंगडाई  लेती
और  बनाती  रिपु  को ग्रास॥
मन में धधकेगी जब 'लौ' तो
समय  बनेगा  तेरा  दास ॥
डैनों में भरके  नये  हौसले
उड़  चल  और  नाप आकाश ॥
मत  हार  मानकर ऐसे बैठ
 कर अपने  पंखों पर विश्वास ॥









Monday, 29 June 2015

जीवन की सच्चाई



जीवन  की  इस आपाधापी में ,
ताउम्र  गुजार दी हमने ,
आशियां अपना बनाने  में ।
जब दो पल का आराम  मिला,
तो आशियां मेरा  खाली  मिला ।
न वो थे,
 जिनके लिए  बनाया  था  ये आशियां।
न हम ,हम रह पाए ,
जिसने  सजाया  था  ये आशियां।
खाली  दीवारों से  टकराकर  लौटती  हुई  आवाजें ,
मुझे  मुँह  चिढा रही हैं ।
मानों  मुझे  आईना  दिखा रही हैं ।
उन सुनहरे  पलों  की याद  दिला  रही हैं ।
जो रेत  की  मानिन्द ,
मेरे  हाथों  से  फिसल गई ।
और  मैं  खाली हाथ  मलती रह गई ।
पर मैं  भगवान से  जिरह  करुंगी ,
मुझे  एक  उम्र  और  चाहिये ,
अपना  आशियां फिर से  बसाने के लिए ।
अपनी  पूरी  जिंदगी अपनों के साथ  बिताने के लिए ।



Sunday, 28 June 2015

प्रेम की परख



उन्हें  आजमाया न करो ऐ दोस्त  ,
जो  तुम्हें  प्यार करते  हैं।
कहीं  कोई  गुस्ताखी न हो जाए ,
इसलिए वे चुप  रहते  हैं ।।
ये  जरूरी  तो नहीं  कि
हर बात  बोलकर  ही बताई  जाए।
भावनाएं  उनकी  भी  होती हैं
जिन्हें  हम  'मूक' कहते हैं ।।